कन्या भोज से कैसे मिलेगी कीर्ति वैभव यश जानिए हमारे साथ

कन्या भोज से प्राप्त होती है सारी खुशियां अनुकंपा माता का स्नेह प्राप्त होता है

कन्या भोज से कैसे मिलेगी कीर्ति वैभव यश जानिए हमारे साथ

कन्या भोज जगत जननी मां अंबे की आराधना है जिसमें व्यक्ति को यश कीर्ति वैभव एवं मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है

कन्या भोज का महत्व :

कन्या भोज का महत्व अत्यंत मनोहारी एवं फलदायक होता है

कन्या भोज नवरात्रि पर्व मैं सप्तमी अष्टमी और महानवमी को किया जाता है अनुष्ठान पूर्ति व्रत पूर्ति और व्रत क्यों अध्यापन के पश्चात नवरात्रि में कन्या भोज का आयोजन हर घर में होता है जिसमें माता के नौ रूपों को स्वरूप नौ कन्या में माना जाता है यह नौ कन्या नव निधि अष्ट सिद्धि की प्राप्ति हेतु भी आशीर्वाद देती है नौ कन्या भोजन कराया जाता है

http://www.astrokushaal.com/astrology-numerology/राशि-अनुसार-कैसे-करें-नवर/

कन्या भोज से कैसे मिलेगी कीर्ति वैभव यश जानिए हमारे साथ

महा कन्या भोज आयोजन

कन्या भोज मे इन सावधानियों का ध्यान रखना चाहिए

http://Astro kushaal

  • कन्या भोज करते समय हमें कुछ विशेष चीजों का ध्यान रखना चाहिए
  • कन्या की उम्र 12 वर्षों से अधिक ना हो
  • कन्या भोज के समय कन्याओं को सर पर चुनरी जरूर दे
  • कन्या भोज के समय मिष्ठान अवश्य बनाएं दूध की खीर का प्रयोग कन्या भोज में अवश्य करें पूरी भी जरूर बनाएं प्याज लहसुन से बने पदार्थों का परहेज करें
  • कन्या भोज के पहले कन्याओं को तिलक उनके पैरों में रोली मोहर लगाकर उनके चरणों का धोकर सहाब स्वच्छ कर उनके पैरों में माहुर लगाकर चरण स्पर्श करें.
  • कन्या भोज के उपरांत दक्षिणा देकर फल और मिष्ठान देकर माता के आशीर्वाद लेकर कन्याओं के आशीर्वाद लेकर उन्हें विदा करें

जगत जननी मां भगवती करुणामई ममता

जय मां जगत जननी


नौ कन्या भोजन में लंगूर का होना भी परम आवश्यक यह कौन होता है जानते हैं

नौ कन्या भोज में कन्या के अलावा एक लंगूर की आवश्यकता होती लंगूर साक्षात हनुमान जी का स्वरूप होते माता के साथ-साथ आगे आगे हनुमान जी चलते ध्वजा वाहक होते हैं अतः कन्या भोज में एक लंगूर की भी आवश्यकता होती है वह लंगूर बाल हनुमान छोटा बालक होता है जो कन्या के उम्र का ही होना चाहिए उसका भी विधिवत पूजन कर दक्षिणा और भोज करवाना अति आवश्यक है

ज्योतिष आचार्य

Astro kushaal

Jyotish shiromani

7000240110

Astro kushaal

Ank jyotish Ank jyotish ka prabahv Astro kushaal astrological remedy Astrology solutions for astro kushaal Bhagwati ki Aradhana kaise kare Colour of gemstone corona remedy covid-19 emmunity power Devi mahima Effect of numbers human being Fire Opal Gemstone Horoscope How to affect Grahana dosha Navratree me kya na Kare Navratree me sadhak kya kare Navratri Navratri me kya kare Numerology Ruby Scientific research for numerology Scintefic region how to work gemstones एस्ट्रो कुशाल कन्या पूजन कब है कन्या पूजन के नियम कन्या पूजन मंत्र कन्या पू जा गंगा दशहरा गिफ्ट्स नौ कन्या पूजन कन्या पूजन की विधि इन हिंदी कन्या पूजन का महत्व कन्या पूजन कब है ग्रहण दोष क्या होता है दशहरा दशहरा कब है दशहरा क्यों मनाया जाता है दशहरा पूजा दशहरा 2019 दशहरा पर निबंध लिखे दशहरा पूजा 2019 दीपावली पूजन दुर्गा सप्तशती पाठ धनतेरस नवरात्र में कन्या भोजन पाठ नियम मराठी दुर्गा राशि अनुसार कैसे करें नवरात्र में माता को खुश और पूरी करे अपनी मनोकामना शापोद्धार दुर्गा सम्पुट पाठ शारदीय नवरात्रि कैसे मनाए और किन सावधानी के साथ इस उत्सव को पूर्ण करें श्री यंत्र सप्तशती पाठ के लाभ दुर्गा सप्तशती संपूर्ण पाठ दुर्गा सप्तशती के सिद्ध मंत्र शापोद्धार दुर्गा सम्पुट पाठ दुर्गा सप्तशती हवन विधि सूर्य ग्रहण दोष

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.